Just another WordPress.com weblog

Archive for अक्टूबर, 2008

दीवाली है मन के दीप जलाओ
इन दीपो से जग को जगमग करो
माटी के दीप तो बुझ जाते हैं
मन के दीप तो हर दिल में
ता-उम्र जलते हैं
चलो कुच्छ ऐसा कर जायें
मन के दीपो की एक माला बनाएं
कुच्छ अपने जैसे लोगों के दिल में
खुशियों के दीप जलाएं

टैग का बादल