Just another WordPress.com weblog


जो खुद को चाहने को तेरा मन हुआ 

तूने अनगिनत रूप बना लिया 
प्रेम का संसार रचाया 
फिर क्यों उसमे तूने 
मन बुद्धि चित्त और अहंकार बसाया 
तू खुद ही खुद को चाहता है 
तभी तो स्वयं को चाहने को 
इतने रूप बनाता है  
हर चाहत का प्यासा तू 
प्रेम के हर रस का भ्रमर सा पान करता है 
फिर क्यों जीव के ह्रदय में 
मन की बेड़ियाँ जकड़ता है 
तू खुद ही जीव खुद ही ईश्वर 
तू ही कर्ता तू ही नियंता 
तुझसे पृथक न कोई अस्तित्व 
फिर क्यों खेल खिलाता है 
किसी को अपनी जोगन बनाता है 
और गली गली नाच नचाता है 
किसी सूर की ऊंगली पकड़ 
खाइयाँ पार कराता है 
किसी तुलसी की कलम में 
बेमोल बिक जाता है 
तो किसी गोपी के ह्रदय में 
विरहाग्नि जलाता है 
ये नटवर नटखट तू 
कैसे खेल रचाता है 
तू ही तू है  सब कुछ 
तेरा ही नूर समाया है 
फिर क्यों कर्मों के लेख की कड़ियाँ सुलझवाता है 
क्यों दोज़ख की आग में झुलसवाता है 
जबकि उस रूप में भी तो 
तू ही दुःख पाता है 
क्योंकि
आंसू हों या मुस्कान
जीव कहो या ब्रह्म
सबमे तू खुद को ही तो पाता है 
फिर क्यों अजीबोगरीब खेल रचता है 
एक अच्छे स्वादिष्ट बने व्यंजन में 
क्यों कीड़े पड़वाता है 
कैसा ये तेरा खेला है 
खुद ही स्वामी खुद ही सेवक बन 
प्रेम की पींगे बढाता है 
पर पार ना कोई पाता है 
कौन सी प्यास है तेरी जो बुझकर भी नहीं बुझती 
जो इतने रूप धारण करने पर भी तू प्यासा ही रह जाता है 
और फिर और प्रेम पाने की चाहत में 
सृष्टि रचना किये जाता है 
पर तेरी प्यास का घड़ा ना भर पाता है 
श्याम ये कैसा तुम्हारा तुमसे ही नाता है 
जो तुम्हें भी नाच नचाता है 
पर ठहराव की जमीन ना दे पाता है 
कहो ना 
कितने प्यासे हो तुम ………. मोहन ?

क्रमश: 
Advertisements

Comments on: "कितने प्यासे हो तुम ………. कहो ना ..1" (3)

  1. सुंदर रचना नवरात्रि,दशहरा की शुभकामनाएँ

  2. मोहन के रहस्यमय प्रेम के पक्ष को जागर करती .. भावपूर्ण रचना …

  3. सबकुछ अपनी ओर खींच ले जाता है..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल

%d bloggers like this: