Just another WordPress.com weblog

वो एक कतरा जो भिगो कर

भेजा था अश्कों के समंदर में
उस तक कभी पहुँचा ही नहीं
या शायद उसने कभी पढ़ा ही नहीं 
फिर भी मुझे इंतज़ार रहा जवाब का 
जो उसने  कभी दिया ही नहीं 

जानती हूँ …………
वो चल दिया होगा उन रास्तों पर 
जहाँ परियां इंतजार कर रही होंगी
कदम तो जरूर बढाया होगा उसने
मगर मेरी सदायें आस पास बिखरी मिली होंगी
और एक बार फिर वो मचल गया होगा
जिन्हें हवा में उडा आया था 
उन लम्हों को फिर से कागज़ में 
लपेटना चाहा होगा
मगर जो बिखर जाती है
जो उड़ जाती है
वो खुशबू कब मुट्ठी में कैद होती है
और देखो तो सही
आज मैं यहाँ गर्म रेत को 
उसी खुशबू से सुखा रही हूँ 
जिसे तूने कभी हँसी में उड़ाया था
बता अब कौन सी कलम से लिखूं
हवा के पन्ने पर सुलगता पैगाम
कि ज़िन्दगी आज भी लकड़ी सी सुलग रही है 
ना पूरी तरह जल रही है ना बुझ रही है 
क्या आँच पहुंची वहाँ तक ?
Advertisements

Comments on: "क्या आँच पहुंची वहाँ तक ?" (17)

  1. जिन्‍दगी आज भी लकड़ी की तरह सुलग रही है … बेहतरीन भाव संयोजन आभार

  2. ज़रूर पहुंची होगी …. आंच नहीं तो तपिश तो महसूस हुयी ही होगी

  3. कि जिंदगी की लकड़ी आज भी सुलग रही है …. वाह , क्या खूबसूरत भाव हैं कविता के … बहुत सुन्दर!

  4. सदैव की तरह अंतस को छूती भावपूर्ण रचना..

  5. मुझे लगता है कि आप रचना के नीचे " जारी " लिखना भूल जा रही हैं।एक ही विषय पर चल रहे "महाकाव्य" के अंत का इंतजार है।बहुत सुंदर

  6. प्रभावशाली एवं चिंतनपरकसुंदर रचनाबधाई आग्रह हैं पढ़ेतपती गरमी जेठ मास में—http://jyoti-khare.blogspot.in

  7. @mahendra shrivastav ji ye to pata nahi ye mahakavya hai ya kuch aur bas kuch khyal dastak de rahe hain aur main unhein prastut karti ja rahi hun isliye pata hi nahi kab tak jari rahega 🙂

  8. शब्दों की आंच से कोई बच नहीं सकता।प्रभावशाली कविता।

  9. jindagi lakri ki tarah sulagti ja rahi hai… :)bahut khub..

  10. लेकिन वाकई लग रहा है कि एक कहानी चल रही है, जिसके खट्टे मीठे स्वाद हम सब तक पहुंच रही है। सच कहूं तो लगता ये है जैसे किसी के जीवन का घटनाक्रम चल रहा है। इसे ही लेखक बाजीगिरी कहते हैं, जिसकी जितनी तारीफ हो कम है।

  11. सामने वाले तक आँच पहुँचा सकने के उपक्रम में व्यस्त विश्व है यह।

  12. आग्रह है गुलमोहर——

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल

%d bloggers like this: