Just another WordPress.com weblog

कभी देखा है खामोश आसमाँ
दिनकर की उदास बिखरती प्रभाएँ
पंछियों का खामोश कलरव
सुदूर में भटकता कोई अस्तित्व
खामोश बंजर आसमाँ की
चिलमनों में हरकत लाने की कोशिश में
दिन में चाँद उगाने की चाहत को
अंजाम देने की इकलौती इच्छा को
पूरा करने की हसरत में
कभी कभी आसमाँ को अंक में
भरने को आतुर उसके नयन
खामोश शब् का श्रृंगार करते हैं
और आसमाँ की दहलीज पर रुकी
साँझ पल में बिखर जाती है
पर आसमाँ की ख़ामोशी ना तोड़ पाती है
कहीं देखा है टूटा – बिखरा हसरतों का जनाजा ढोता आसमाँ ?

Advertisements

Comments on: "कभी देखा है खामोश आसमाँ" (7)

  1. आसमां स्तब्ध हो जाता है..जब धरती पर कोई चिल्लाता है।

  2. गंभीर रचना ..वर्तमान परिदृश्य में आपकी रचना आँखों के सामने है ..सादर बधाई के साथ

  3. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (29-05-2013) के सभी के अपने अपने रंग रूमानियत के संग ……! चर्चा मंच अंक-1259 पर भी होगी!सादर…!

  4. आसमान भटकता तो कभी नहीं दिखापर सबके अपने-अपने आसमान होते हैंबहुत गहन अनुभूति की रचनाबहुत सुंदरसादर तपती गरमी जेठ मास में—http://jyoti-khare.blogspot.in

  5. बिखर कर भी आसमान अनंत रहता है ….

  6. hamesha aisee isthiti se do char hona padta hai …vandna jee ….gahan anubhooti liye rachna …

  7. सुंदर शब्द संयोजन से सजी उम्दा पोस्ट…

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल

%d bloggers like this: