Just another WordPress.com weblog


आँख में पड़ी किरकिरी सा रडकता तुम्हारा वजूद 

देखो तो कभी मोती बन ही नहीं पाया 
जानते हो क्यों ………….
क्योंकि 
मैने सहेजा था सिर्फ़ प्रेम को और तुमने अपने अहम को 
सिर्फ मन रुपी माखन चुराना 
या प्रीत के नयन बाण चलाना ही काफी नहीं होता 
प्रीत निभाने के भी कुछ दस्तूर हुआ करते हैं ……..मोहन ! 
अगर तुम हो तो ……..
Advertisements

Comments on: "आँख में पड़ी किरकिरी सा रडकता तुम्हारा वजूद" (8)

  1. कान्हा के मन की समझ पाना सदा ही कठिन रहा है।

  2. कान्हा के दस्तूर कान्हा ही समझ सकता है, हम सब तो कठपुतलियाँ हैं उसके हाथ की…

  3. ज़माने के दस्तूर निभाने कितने मुश्किल होते हैं,निभाने वाला ही जानता है मनोभावों को उकेरती अच्छी रचना.

  4. ज़माने के दस्तूर निभाने कितने मुश्किल होते हैं,निभाने वाला ही जानता है मनोभावों को उकेरती अच्छी रचना.

  5. कान्हा आँख की किरकिरी बन कर भी शामिल हैं तुम में :):)

  6. prem ko samajh pana bhi kahan aasan hota hai …ati sundar ….

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल

%d bloggers like this: