Just another WordPress.com weblog



ना लीक पर
और ना लीक से हटकर
कुछ भी तो नहीं रहा पास मेरे
ना कुछ कहना
ना कुछ सुनना
एक अर्धविक्षिप्त सी तन्द्रा में हूँ
किसी स्वर्णिम युग की दरकार नहीं
और ना ही किसी जयघोष की चाह
खुश हूँ अपने पातालों में
फिर भी कशमकश के खेत
कैसे लहलहा रहे हैं ……..
आदिम वर्ग कितना खुश है
और मेरी जड़ सोच के समूह कितने कुंठित
फिर भी जिह्वया लपलपा रही है
ज्यों मनचाही पतंग काटी हो
ये सोच पर पड़े पालों पर
ना जाने कैसे इतने सरकंडे उग आये हैं
कि  कितना दुत्कारो
कितना समझाओ
मगर आकाश बेल से बढे जा रहे हैं
अब जड़ों को चाहे कितना खोदो
बीज कब और कहाँ रोपित हुआ था
उसका न कोई अवशेष मिलेगा
जीना होगा तुम्हें …………हाँ ऐसे ही
इसी अधरंग अवस्था में
क्योंकि
ना तुम लीक पर हो
ना लीक से हटकर हो
तुम उस दुधारी तलवार पर हो
जिसके दोनों तरफ तुम्हें ही कटना है
बस निर्णय करो ……….किस तरफ से ?

इतिहास की किताब का महज एक पन्ना भर हो तुम
क्योंकि
संस्कृति और संस्कार तो सभ्यताओं संग ही ज़मींदोज़ हो चुके हैं
अब पुरातत्वविदों के लिए महज शोध का विषय हो तुम …………..

Advertisements

Comments on: "बस निर्णय करो ……….किस तरफ से ?" (17)

  1. सार्थकता लिये सशक्‍त प्रस्‍तुतिसादर

  2. सुन्दर अभिव्यक्ति..

  3. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति , आज जरूरत है ऐसे ही अभिव्यक्ति की .

  4. आज सुधार लें, इतिहास पर गर्व करने का वातावरण बन जायेगा।

  5. विचारणीय प्रश्न ,सार्थक प्रस्तुति latest post बे-शरम दरिंदें !latest post सजा कैसा हो ?

  6. सटीक! बस तुम्हें ही कटना है ..निर्णय करो ..किस तरफ से ……..

  7. बहुत भावपूर्ण लेखन। हार्दिक बधाईमेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है……….

  8. आपने लिखा….हमने पढ़ा और लोग भी पढ़ें; इसलिए कल 25/04/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ….धन्यवाद!

  9. ना लीक पर और ना लीक से हटकरकुछ भी तो नहीं रहा पास मेरेना कुछ कहना ना कुछ सुननाकभी कभी ऐसी भाव दशा से अनूठी सूझ मिलती है..सराहनीय प्रस्तुति..

  10. मौजूदा हालात को लिखा है .. आक्रोश लिखा है …

  11. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति….बधाईइंडिया दर्पण पर भी पधारेँ।

  12. i must say shabdheen kar diya aapne…..behad khoobsoorat rachna.

  13. बहुत खूब …ज़ोरदार अभिव्यक्ति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल

%d bloggers like this: