Just another WordPress.com weblog

तुम अग्निवेश हो
कैसे मीमांसा करे कोई
जलाकर खाक करने की
तुम्हारी नियति रही
कैसे नव निर्माण करे कोई
विध्वंसता तुम्हारा गुण रहा
क्या हुआ जो कभी तुमने
रोटी को पकने दिया
क्या हुआ जो कभी तुमने
दूध को औंटा दिया
क्या हुआ जो कभी तुमने
यज्ञ को सम्पूर्ण किया
क्या हुआ जो कभी तुमने
ताप सेंकने दिया
क्या हुआ जो कभी तुमने
सहला दिया
रूप को प्रतिरूप किया
कभी वीभत्स तो कभी
रौद्र रूप दिखा दिया
तो कभी वर्षा ऋतु का
श्रृंगार किया
और नेह का मेह बरसा दिया
क्योंकि
नियमानुसार कहो या
परम्परानुसार तो
तुम्हें विनाश का ही है
दायित्व मिला
और अपने कर्त्तव्य से विमुख
होना तुमने कब है सीखा
दाहकता को प्रमाणित करने की
कब किसे जरूरत पड़ी
ताप ही काफी है महसूसने के लिए
फिर कहो तो ज़रा
कैसे तुम्हारी व्याख्या हो
तुम गौर ब्राह्मणीय  नहीं
तुम कोई अवतार नहीं
एक अजस्र फैले व्यास के आधार नहीं
सब कुछ समा लेने की तुम्हारी नियति
अपने गर्भ में समेटता तुम्हारा
ओजपूर्ण विग्रह
एक श्वांस में समाहित करने की
तुम्हारी क्षमता
भयंकर आर्तनाद करती हुँकार
व्याकुलता , विह्वलता के साथ
समाहित भय के त्रिशूल
जीवन और जीव को भेदती
लपलपाती जिह्वा
दाढ़ों में फँसी कुंठाओं का
जीता जागता स्वरुप
काल के गाल में जाता
समय का पहिया
महाविनाश का तांडव करती
विनाशकारी रूपरेखा का
अद्भुत चमत्कृत सौंदर्य
दहलाती वाणी का आर्तनाद
कैसे तुम्हें व्याख्यातित किया जा सकता है
फिर किस बुनियाद पर तुम्हारा
आत्मावलोकन हो
क्योंकि
अग्निवेश से आवेष्ठित चरित्रों पर
छाँव नहीं हुआ करती …………दहकती दाहकता ही अवलोकित होती है
उस  विरल विराट विग्रह के दर्शन यूँ ही नहीं हुआ करते
और अर्जुन बनना सभी की सामर्थ्य नहीं …………ओ केशव विराट रूप!!!
Advertisements

Comments on: "कैसे मीमांसा करे कोई" (8)

  1. विनाश के साथ नव निर्माण भी तो करते हैं ….

  2. पूरी कविता पढी, अच्‍छी लगी, कविता में महसूसने के साथ ही कुछ आंचिलक शब्‍दों के प्रयोग इसे और समृद्ध करते हैं और महसूसने की क्षमता में वृद्धि भी, आभार

  3. अर्जुन बनना सबकी सामर्थ्य नहीं है, विराट रूप बस वही सम्हाल सकेगा।

  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!–इंजीनियर प्रदीप कुमार साहनी अभी कुछ दिनों के लिए व्यस्त है। इसलिए आज मेरी पसंद के लिंकों में आपका लिंक भी चर्चा मंच पर सम्मिलित किया जा रहा है और आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (03-04-2013) के “शून्य में संसार है” (चर्चा मंच-1203) पर भी होगी!सूचनार्थ…सादर..!

  5. प्रवाहपूर्ण अभिव्यक्ति …बहुत खूब

  6. विनाश और श्रृष्टि दो हाथ है विराट कृष्ण के,परे है मनुष्य के बुद्धि विवेक से,latest post कोल्हू के बैल

  7. क्या वर्णन है…. केशव विराट रूप का…~सादर!!!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल

%d bloggers like this: